सुभाष चंद्र बोस के परपोते ने कहा, ‘कंगना’ इतिहास का विकृत ना करें

0
15

चित्र : बीजेपी नेता कंगना रनौत।

कोलकाता। अभिनेत्री से नेता बनीं कंगना रनौत ने हालही में एक निजी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा था कि, देश के पहले प्रधानमंत्री सुभाष चंद्र बोस हैं, जिसको लेकर उन्हें काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। लेकिन अब सुभाष चंद्र बोस के परपोते चंद्र बोस ने कहा है कि पं. जवाहरलाल नेहरू भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं। बीजेपी नेता कंगना इतिहास को विकृत करने की कोशिश ना करें।

उन्होंने कंगना की निंदा करते हुए आगे कहा कि ‘नेहरू बंगाल और पंजाब के विभाजन के बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। यह इतिहास है। इसे कोई नहीं बदल सकता।’

चंद्र बोस ने दावा किया, ‘सुभाष चंद्र बोस अविभाजित और एकीकृत भारत के पहले और आखिरी प्रधानमंत्री थे। उन्हें आज़ाद हिंद का प्रधानमंत्री चुना गया था, जो 21 अक्टूबर, 1943 को सिंगापुर में बनी निर्वासित सरकार थी।

नेताजी के परपोते ने यह भी कहा, नेताजी का इस्तेमाल नेहरू और कांग्रेस का मुकाबला करने के लिए किया जा रहा है, जो बेहद आपत्तिजनक है। नेताजी दो दशकों (1921 से 1941) तक नेहरू, गांधी और चित्तरंजन दास के साथ कांग्रेस में थे। हालांकि नेताजी और नेहरू के बीच मतभेद थे, लेकिन वे एक-दूसरे का सम्मान भी करते थे। अगर ऐसा नहीं होता, तो नेताजी ने आजाद हिंद फौज की ब्रिगेड का नाम नेहरू और गांधी के नाम पर नहीं रखा होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here