चीन ने कहा, PM मोदी के इंटरव्यू के बाद, सीमा विवाद मामले में ‘सकारात्मक प्रगति’

0
83

चित्र : चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता माओ निंग।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्थिर भारत-चीन संबंधों के महत्व पर जोर दिए जाने के कुछ दिनों बाद, चीन ने कहा कि दोनों देशों ने एलएसी पर सीमा गतिरोध को हल करने के लिए ‘सकारात्मक प्रगति’ की है। समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, मीडिया से बात करते हुए, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत और चीन सीमा मुद्दे पर करीबी संवाद बनाए हुए हैं।

समाचार एजेंसी ने चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता माओ निंग के हवाले से कहा, ‘सीमा मुद्दे के बारे में मैं आपको बता सकता हूं कि चीन और भारत कूटनीतिक और सैन्य चैनलों के माध्यम से निकट संपर्क में हैं और इस दिशा में काफी सकारात्मक प्रगति हुई है। हम यह भी मानते हैं कि चीन और भारत संबंध दोनों देशों के हितों की पूर्ति करते हैं।’

माओ ने आगे कहा, ‘चीन को उम्मीद है कि भारत मतभेदों को ठीक से प्रबंधित करने और द्विपक्षीय संबंधों को स्वस्थ, स्थिर ट्रैक पर आगे बढ़ाने के लिए चीन के साथ समान दिशा में काम करेगा।’

बता दें कि सप्ताह की शुरूआत में पीएम नरेंद्र मोदी ने न्यूजवीक को दिए इंटरव्यू में कहा था कि भारत और चीन के बीच स्थिर संबंध न केवल दोनों देशों के लिए, बल्कि पूरे क्षेत्र और विश्व के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि सीमा पर ‘लंबे समय से चली आ रही स्थिति’ का तत्काल समाधान किया जाना चाहिए।

इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा था कि मेरा मानना ​​है कि हमें अपनी सीमाओं पर लंबे समय से चली आ रही स्थिति का तत्काल समाधान करना चाहिए, ताकि हमारे द्विपक्षीय संबंधों में आई असामान्यता को पीछे छोड़ा जा सके।

बता दें कि मई 2020 में गलवान में हुई झड़प के बाद भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इस झड़प में कथित तौर पर लगभग 40 चीनी सैनिकों की भी जान चली गई थी। दोनों पक्षों के बीच अब तक कोर कमांडर स्तर की 21 दौर की वार्ता हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here