हाथरस घटना पर योगी सरकार सख्त इन लोगो के ऊपर होगी कारवाई

0
51

सन 1954 में हुए प्रयागराज महाकुंभ में मची भगदड़ के बाद प्रदेश में अब तक का दूसरा सबसे बड़ा हादसा हाथरस में हुवा है। हाथरस में एक सत्संग के दौरान मची भगदड़ में अब तक 127 लोगों की मौत हो गयी , हजारों घायलों की इलाज जारी है. घटना को लेकर अब विपक्ष सरकार पर हमलावर लेकर इस बीच जिलाधिकारी आशीष कुमार ने यह जानकारी दी है कि इस सत्संग की परमिशन किसने दी थी? डीएम ने कहा कि एसडीएम ने इस सत्संग के लिए परमिशन दी थी. वहीं स्थानीय सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने बाहरी सुरक्षा का जिम्मा संभाल रखा था लेकिन सत्संग स्थल के अंदर की सुरक्षा का जिम्मा खुद बाबा ने संभालने का दावा किया था. वहीं जितने भी घायल लोग है, उनकी हर संभव मदद की जा रही है.

ALSO READ योगी और ब्रजेश पाठक आमने-सामने, खत्म होगा योगी का ये बड़ा अभियान

संत भोले बाबा का प्रवचन सुनने के लिए हाथरस एटा बॉर्डर के पास स्थित रतीभान पुर में बहुत बड़ी संख्या में लोग जमा थे. सत्संग पंडाल में अचानक मची भगदड़ से कई लोगों की मौत हो चुकी है. मरने वालों में ज्यादातार महिलाएं और बच्चे हैं. मरने वालों की संख्या और भी बढ़ सकती है. काफी संख्या में महिलाएं, बुजुर्ग और बच्चे घायल हैं. जिनकी हालत गंभीर बताई जा रही है.पंडाल में भयानक उमस और गर्मी के कारण भगदड़ जैसी स्थिति बन गई थी जिसके कारण यह हादसा हुआ. घटनास्थल पर पुलिस प्रशासन और एंबुलेंस पहुंचने में काफी देरी हुई, जिसके कारण कई घायलों की मौके पर ही मौत हो गई.सूबे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस हादसे को लेकर कहा कि हमारी सरकार इस घटना की तह में जाकर साजिशकर्ताओं और जिम्मेदारों को उचित सजा देने का काम करेगी। प्रदेश सरकार इस पूरी घटना की जांच करा रही है। हम इसकी तह में जाएंगे और देखेंगे कि यह हादसा है या साजिश। उन्होंने अपने आवास पर पत्रकारों से कहा कि घटना अत्यंत दुखद और ह्दयविदारक है।मुख्यमंत्री ने घटना पर राजनीति करने वाले दलों को भी फटकार लगाते हुए कहा कि इस प्रकार की घटना पर पीड़ितों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के बजाए राजनीति करना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। यह समय पीड़ितों के घावों पर मरहम लगाने का है। सरकार इस मामले में पहले से संवेदनशील है और किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। आपको बताते चले हाथरस की घटना ने सूबे के मुख्यमंत्री को झकझोर कर रख दिया हैं ,इस सम्बेदंशील मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ काफी गंभीर दिखें ,लोमहर्षक घटना पर सीएम योगी काफी संजीदा हो गए घटना की जानकारी होते ही योगी सरकार ने युद्धस्तर की बचाव व राहत कार्य करने में जुट गयी ,रात भर योगी आदित्यनाथ बिना सोयें पूरी घटना पर अपनी पेनी नजर बनाये रहें ,सीएम योगी लगतार pm मोदी से लेकर अधियकारियो के संपर्क में रहते हुए राहत एवं बचाव कार्य पर दिशानिर्देश देते रहे। यही नहीं गहरा दुख व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दे दिए हैं।

केंद्र और राज्य सरकार ने मृतकों के परिवार वालों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये की मदद देने की घोषणा की है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री समेत कई नेताओं ने घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मंगलवार को जैसे ही हाथरस दुर्घटना की जानकारी मिली वैसे ही सीएम ने अपनी कैबिनेट के दो मंत्री लक्ष्मी नारायण और संदीप सिंह के साथ ही आला अधिकारियों को मौके वारदात पर निर्देश दिया , वहीं ADG आगरा और कमिश्नर के नेतृत्व में टीम गठित कर जांच के आदेश दिए हैं, और 24 घंटे के अंदर योगी सरकार ने रिपोर्ट मांगी है ,मुख्यमंत्री पल पल की स्थिति पर अपनी नजर बनाए हुए हैं ,इसके साथ ही अस्पतालों को अलर्ट पर रखा गया है हाथरस भगदड़ स्थल की जांच पड़ताल के लिए फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई है फोरेंसिक टीम ने डॉग स्क्वॉड के साथ जहां शुरू कर दी है ,मुख्यमंत्री योगी आज खुद घटनास्थल का जायजा लेने और घायलों से मिलने हाथरस पहुंचे है. योगी आदित्यनाथ ने घटना पर पहुंचकर कहा है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी ,साजिश करने वालों को बक्शा नहीं जायेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here