योगी के आदेश पर सियासत,मोहर्रम में तलवार लहराने पर बवाल

0
74

मुहर्रम का कल पहला दिन था । लेकिन पहले ही दिन उत्तर प्रदेश में खास समुदाय के कुछ लोग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चैलेंज कर रहे हैं. उनके फैसले को चुनौती दे रहे हैं. योगी ने कहा था कि मुहर्रम पर शस्त्र मत दिखाना। उनका ऐलान था कि, तलवारबाजी नहीं चलेगी. हथियार का प्रदर्शन नहीं चलेगा । लेकिन यूपी के मौलाना और कई मुस्लिम युवक कह रहे हैं कि तलवार तो चलाएंगे जी. वही अब तलवार बाजी पर समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एसटी हसन ने भी अपनी प्रक्रिया दी है, उन्होंने कहा है कि मुझे भी कावड़ यात्रा में बज रहे डीजे से परेशानी है, कावड़ में डीजे बजने से मेरा दिल दहल जाता है, सरकार जो भी कानून बनाए सिर्फ मुसलमानों को लेकर न बनाए नहीं तो ये प्रदेश के लिए सही नही होगा, कुलमिलकर अब उत्तर प्रदेश में मोहर्रम में हथियार लहराने को लेकर योगी और मूलसमान आमने सामने है,

ALSO READ आजम खान के रिसॉर्ट पर चला बाबा का बुलडोजर

मोहर्रम शिया मुसलमानों का गम का महीना होता है. इस महीने में मुसलमान गम मनाते हैं. काले कपड़े पहनते हैं. साथ ही कई तरह के मातम करते हैं. परंपरा के मुताबिक कहीं पर सीना पीटने का मातम, कहीं पर आग का मातम, तो कहीं पर छुरी और बरछी से मातम किया जाता है. लेकिन हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार ने मुहर्रम के जुलूस में अस्त्र-शस्त्रों के प्रदर्शन और उससे मातम करने पर रोक लगा दी है.समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व सांसद एसटी हसन ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि पाबंदी सब पर बराबर होनी चाहिए. पूर्व सांसद एसटी हसन ने कहा कि सभी धर्म के लोगों के धार्मिक जुलूसों पर अस्त्र-शस्त्र की पाबंदी होनी चाहिए. मैं कहता हूं इसकी जरूरत क्या है? पिछले 200-300 सालों से ये सब चला आ रहा है, लोग जुलूस के दौरान अस्त्र शस्त्र की अपनी कला दिखाते हैं और लाठी-डंडे समेत कई वस्तुओं का इस्तेमाल करते हैं, मेरे संज्ञान में नही है, एक भी आदमी की इससे मौत हुई हो.उन्होंने आगे कहा कि जुलूस में इसे रोकने की जरूरत क्या है, अगर रोका है तो ईमानदारी से सब पर रोक लगानी चाहिए. ऐसा नहीं होना चाहिए कि लोग हैवी डीजे लेकर चलते हैं, लोगों के दिल धड़कते हैं, खिड़कियां झनझनाती हैं, घर के अंदर वाइब्रेशन होता है, बीमार आदमी सड़क से दूर भागता है. एसटी हसन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट और मुख्यमंत्री का आदेश है कि डीजे को लिमिट में बजाए जाए, लेकिन मस्जिद में अजान होती है, उसकी आवाज 60 डेसिमिल से ज्यादा होती है तो पुलिस आकर लाउडस्पीकर निकाल लेती है. अमन की चाबी इंसाफ के पास है, सबके साथ बराबर का इंसाफ होगा तो किसी को भी दुश्वारी नहीं होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here