रोजगार के मौके मंदिर मस्जिद से नहीं बनेंगे – कमलनाथ

भोपाल के जिंसी चौराहे पर महापौर प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में आयोजित जनसभा को पीसीसी चीफ कमलनाथ ने संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में जनता से वोट देने की अपील की।

भोपाल के जिंसी चौराहे पर महापौर प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में हो रही जनसभा में कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल के जिंसी चौराहे पर महापौर प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में जनता से वोट देने की अपील की। सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि, साल 1991 में उन्होंने वीआईपी रोड के लिए 300 करोड़ रुपए आवंटित किए थे। जब वो केंद्र में पर्यावरण मंत्री थे। उसी समय बड़े तालाब की सफाई शुरू हुई। मेट्रो ट्रेन परियोजना की शुरूआत भी उन्होंने कराई। इसके साथ ही कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चुनौती देते हुए कहा कि, वह मंच पर आकर 18 साल के काम का जनता को हिसाब दें।  

रोजगार के मौके मंदिर मस्जिद से नहीं बनेंगे – कमलनाथ

जिंसी चौराहे पर महापौर प्रत्याशी विभा पटेल के समर्थन में जनता को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने युवाओं की महत्वकांक्षाओं और आज की पीड़ी के युवाओं की जरुरतों को लेकर बेबाकी से अपनी बात रखी। कमलनाथ ने कहा की आज नौजवानों का भविष्य सबसे बड़ी चुनौती हैं। युवा ही अगर भटकते रहे इनके सामने कोई रोशनी ना हुई तो क्या निर्माण होगा मध्यप्रदेश का? भोपाल का क्या निर्माण होगा? कैसे नौजवानों को रोजगार मिले, हमारे बुजूर्गों की दुनिया कुछ और थी। आज का युवा ठेका और कमीशन नहीं व्यवसाय चाहता है, रोजगार चाहता है, अपने हाथों को काम चाहता हैं।

मोदी जी जिस स्कूल में गए वो कांग्रेस ने बनाया – कमलनाथ

कमलनाथ ने शिवराज सरकार के कार्यकाल पर एक बार फिर चुनौती देते हुए कहा की वो अपने 15 महीनें के कार्यकाल का हिसाब देंगे शिवराज जी भी मंच पर आकर 18 साल के कामों का हिसाब दें। कांग्रेस के 70 सालों पर बीजेपी के सवाल उठाने को लेकर कमलनाथ ने मंच से चुटकी लेते हुए कहा की जिस स्कूल में शिवराज जी गए थे वो स्कूल कांग्रेस ने बनाया, मोदी जी जिस स्कूल में गए वो भी कांग्रेस ने बनाया।

दक्षिण जाते है तो पजामा और धोती भी लुंगी बन जाती हैं – कमलनाथ   

कमलनाथ ने मंच से संबोधित करते हुए कहा की दुनिया में कोई ऐसा को देश नहीं जहां इतने सारे धर्म हैं, जाति और भाषा के लोग रहते हैं। जहां इतने सारे रस्म हैं, त्योहार हैं, ऐसा कोई देश नहीं जहां इतने देवी-देवता हो जितने भारत में हैं। ये हमारे देश की संस्कृति की विशेषता हैं। आज हम दक्षिण जाते है तो पजामा और धोती भी लुंगी बन जाती हैं। अपकों चुनना है आपकों कौनसी संस्कृति चाहिए।

मेट्रो ट्रेन परियोजना की शुरूआत मैनें कराई – कमलनाथ

सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि, साल 1991 में उन्होंने वीआईपी रोड के लिए 300 करोड़ रुपए आवंटित किए थे। जब वो केंद्र में पर्यावरण मंत्री थे। उसी समय बड़े तालाब की सफाई शुरू हुई। मेट्रो ट्रेन परियोजना की शुरूआत भी उन्होंने कराई। कमलनाथ ने कहा की आज जो हरे भरे पेड़े भोपाल में आप देखते हैं, वो पेड़ 30 साल पहले हमने अपने हाथों से लगाए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.