राहुल गाँधी के इस दावे में कितनी सच्चाई ?

0
49

लोकसभा चुनाव ख़त्म हो गया है लेकिन सियासी पारा अभी भी चढ़ा हुवा है। अब जब NDA की सरकार बन गयी है तब भी इंडिया गठबंधन के नेता सरकार गिरने का दावा करते नजर आ रहे हैं। गठबंधन सरकार की एक बहुत बड़ी कमजोरी होती है कि विपक्ष हर समय इसी दावे में लगा रहता है कि बहुत जल्दी यह सरकार गिर जाएगी. वैसा ही कुछ आजकल कांग्रेस के बड़े नेता कर रहे हैं. पहले मल्लिकार्जुन खरगे और अब राहुल गांधी ने यही बात कही है.

ALSO READ रात के अंधेरे में प्रेमिका से मिलने पहुँचे प्रेमी को मिली तालिबानी सजा

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने विदेशी मीडिया से बात करते हुए दावा किया है कि छोटी सी गड़बड़ी से मोदी सरकार गिर सकती है. इतना ही नहीं राहुल गांधी यह दावा भी करते हैं कि मोदी खेमे में काफी असंतोष है और कई लोग उनके संपर्क मे हैं। .. दरअसल राहुल गांधी ने फाइनेंशियल टाइम्स के दक्षिण एशिया ब्यूरो चीफ जॉन रीट को दिए इंटरव्यू में ये सब बातें कहीं हैं. हालांकि राहुल गांधी ने कोई नई बात कही है. करीब 5 दिन पहले कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने भी यही बात कही थी. तो क्या राहुल गांधी और खरगे की बातों को सही माना जा सकता है। चलिये हम राहुल गांधी और खरगे की बातों का विश्लेषण 4 तरीके से कर हैं. इसलिए बात कर लेते हैं कि एनडीए की वर्तमान सरकार कब तक चलेगी इसमें कोई दो राय नहीं हो सकता है कि केंद्र की एनडीए सरकार बैसाखियों पर टिकी हुई है. प्रदेश में पिछले 10 सालों का इतिहास को छोड़ दें तो उसके पहले लगातार 15 साल बैसाखी पर सरकारें सफलतापूर्वक चलती रही हैं। बता दे कि 1999 में बनी अटल बिहारी वाजपेई की सरकार हो या 2004 और 2009 में बनी यूपीए सरकार हो सभी सरकारों ने अपना कार्यकाल पूरा किया है ।दरअसल अब गठबंधन का फार्मूला डेवलप हो चुका है और अब 1995 से 2000 वाला दौर नहीं है, क्योंकि सरकार बचाने के लिए अपने महत्वपूर्ण बिल पास करने के लिए तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह जैसे व्यक्तित्व ने भी साम दाम दंड भेद की पॉलिसी अपनायी थी. पहले केवल सीबीआई ही होती थी उसके बाद ED ने भी अपना काम शुरू कर दिया ,उस समय जब यूपीए सरकार गिरने के मोड में आती या कोई महत्वपूर्ण बिल को पास करना होता तो मुलायम सिंह यादव के परिवार पर आय से अधिक संपत्ति का शिकंजा कांग्रेस के द्वारा कस दिया जाता था ,जिसके चलते यूपीए सरकार चलती रही थी। इसलिए अब भी यह कहना कि बैसाखी पर सवार सरकार 5 साल पूरा नहीं कर पाएगी ,शिवाय मूर्खता के और कुछ भी नहीं है।। अब बात कर लेते हैं कि इंडिया गठबंधन को लेकर ,,,क्या इंडिया गठबंधन सरकार बनाने की स्थिति में है ? राहुल गांधी इंटरव्यू में कहते रहते हैं कि एनडीए के लोग हमारे संपर्क में हैं दरअसल यह सही हो सकता है कि राहुल गांधी के संपर्क में कुछ लोग हो लेकिन ये बात वैसा ही हैं जैसे की कोई बीजेपी के नेता बोले कि इंडिया गठबंधन के कई दलों के सांसद हमारे संपर्क में हैं ,लेकिन आपको बता दे कि इस दौर में दल बदल कानून इतना आसान भी नहीं है ,क्योकि अभी हाल ही में हमने देखा कि हिमाचल में सारा तंत्र बीजेपी के हाथ में है और हिमाचल की जनता का साथ होने के चलते नैतिक बल भी है ,फिर भी राज्य में सुक्खू सरकार बच गई. यही हाल दिल्ली में है सीएम अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से जमानत नहीं मिल रही है। लोकसभा चुनाव में जनता ने भी केजरीवाल को बुरी तरह हरा दिया दिया पर कोई उनकी कुर्सी पर हाथ नहीं डाल पा रहा है। कहना आसान होता है पर भाजपा के एनडीए के सांसदों को तोड़ लेना कोई खेल नहीं है। दूसरी चीज है कि केंद्र में बहुमत का जादुई आंकड़ा 272 है। बीजेपी के पास 240 सांसद है जबकि सहयोगी दलों के पास 53 सांसद हैं। इस तरह 293 हो रहे हैं अगर 22 सांसद काम हो जाए तो ही भाजपा सरकार गिर सकती है, लेकिन यह इतना आसान नहीं है बिना टीडीपी और नीतीश के समर्थन वापस लिए या बिल्कुल भी संभव नहीं हो सकता दूसरी बात अगर पार्टी टूटती है तो फायदा बीजेपी को ही होगा क्योंकि लोकसभा अध्यक्ष भाजपा का होगा और अगर अपना समर्थन जदयू और TDP वापस लेते है तो फिर जोड़ तोड़ की राजनीती का खेल होगा ,जिस खेल में भाजपा भारी ही पड़ेगी ,शायद यही सोचकर नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू चुपचाप NDA में बने हुए हैं।

चलिए अब बात कर लेते हैं कि अगर बीजेपी की सरकार गिर गई। नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू बीजेपी से समर्थन अपना वापस ले लेते हैं और यह समर्थन को जाकर इंडिया गठबंधन को दे देते हैं तो क्या इंडिया गठबंधन बहुमत का जादुई आंकड़ा का लेने के बाद क्या सरकार चला पाएगी। क्या एनडीए सरकार इंडिया गठबंधन की सरकार चलने देगी ,तो जवाब है नहीं ,अगर ऐसा होता है तो सरकार इसी बहाने लोकसभा भंग करके बीच में ही चुनाव कराने की सिफारिश कर सकती है। इसके बाद देश में एक बार फिर से चुनाव देखने को मिल सकता है। हालांकि यह सब बातें हैं फिलहाल नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू मोदी के कामकाज से खुश नजर आ रहे हैं। सरकार गिरने के चांस बहुत कम है फिर भी इंडिया गठबंधन के लोग लगातार इस बात को हवा दे रहे हैं कि सरकार कमजोर है और कभी भी बीजेपी की सरकार गिर सकती है। हालांकि यह कहना आसान है पर फिलहाल अभी तो ऐसा नहीं लगता कि बीजेपी की सरकार केंद्र से हट जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here