यूपी विधानसभा का बजट सत्र, सीएम योगी और अखिलेश आमने सामने किन किन क्षेत्रों पर इस मेगा बजट में विशेष फोकस होगा ?

यूपी की योगी सरकार पार्ट – 2 कल 22 फरवरी को यूपी का अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश करेगी। इस बजट में वित्तमंत्री सुरेश खन्ना के पिटारे से क्या कुछ निकलेगा और देश के सबसे बड़े सूबे के बजट से क्या कुछ उम्मीद है? बजट में गांव – गरीब -किसान – मजदूर को क्या मिलेगा और किन किन क्षेत्रों पर इस मेगा बजट में विशेष फोकस होगा ?

ALSO READपब्लिक ग्रीन बॉन्ड लिस्टिंग कार्यक्रम में बोले सीएम शिवराज लोग जब सोचना शुरु करते हैं तब इंदौर काम पूरा कर चुका होता है

बजट पूर्व विश्लेषण पर जानकारों को मानें तो अनुमानित 7 लाख करोड़ के बजट में सरकार की कोशिश हर वर्ग को खुश करने की होगी। वजह है कि आगामी निकाय चुनाव और फिर 2024 में लोकसभा चुनाव, किसान, युवा और उद्योग पर बजट में सरकार बड़े ऐलान कर सकती है। पश्चिम यूपी में लगातार विरोध प्रदर्शन को देखते हुए गन्ना किसानों के लिए भी बजट में फोकस रहने की पूरी उम्मीद है। इसके अलावा MSME सेक्टर, पर्यटन के विकास पर फोकस रहेगा। एक्सप्रेस-वे और मेट्रो सेवा निर्माण को लेकर अलग से बजट जारी किया जा सकता है। ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के उद्यमियों के लिए बजट में खास व्यवस्था की गई है।

अनुमानित 10 बड़े सेक्टर, जिन पर बजट में फोकस रहने की उम्मीद है।

खेती किसानी :

पश्चिमी यूपी के किसान लगातार धरने पर बैठे हैं। किसानों का कहना है कि योगी सरकार ने गन्ना किसानों के लिए समर्थन मूल्य घोषित नहीं किया। इसलिए माना जा रहा है कि बजट में किसानों के लेकर सरकार बड़ा ऐलान कर सकती है। इसके अलावा किसानों के उपकरण पर सब्सिडी भी बढ़ाई जा सकती है।

एमएसएमई सेक्टर:

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में सबसे ज्यादा MSME सेक्टर में MOU साइन हुए हैं। प्रदेश सरकार बजट में MSME सेक्टर को लेकर बड़े ऐलान कर सकती है। उद्यमियों को जमीनों में जो छूट और बिजली और अन्य संसाधनों की जो व्यवस्था की जानी है, उन पर बजट में बड़ी घोषणा हो सकती है। विपक्ष भी लगातार ग्लोबल समिट को लेकर सरकार को घेर रहा है। ऐसे में सरकार इसे बढ़ाव देगी।

यूथ प्रमोशन सेक्टर :

2024 चुनाव से पहले योगी सरकार युवाओं पर फोकस करते हुए लैपटॉप बांटने को लेकर बड़ा बजट घोषित कर सकती है। माना जा रहा है कि हाई स्कूल से लेकर स्नातक तक के छात्रों को लैपटॉप और टैबलेट दिए जाने का बजट में ऐलान किया जाएगा। इससे पहले पेश किए गए बजट में मामूली बजट लैपटॉप और टैबलेट पर राशि घोषित की गई थी।

आधी आबादी का विकास :

MSME सेक्टर के अलावा वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट के तहत जिलों में महिलाओं को रोजगार दिए जाने को लेकर बजट में प्रावधान किया जा सकता है। महिलाओं को कुटीर उद्योग से जोड़ने के लिए बड़ी घोषणा हो सकती है। इस बार बजट में महिलाओं को लेकर अलग से धनराशि सरकार जारी कर सकती है।

रिलीजियस टूरिज्म :

यूपी के धार्मिक नगरी कहे जाने वाले अयोध्या, वाराणसी, मथुरा समेत विभिन्न जिलों के पर्यटन स्थलों को बेहतर किए जाने पर सरकार फोकस कर रही है। यूपी के हर एक जिले के पर्यटन और ऐतिहासिक स्थलों को विकसित किए जाने पर भी सरकार इस बार के बजट में ऐलान कर सकती है। माना यह भी जा रहा है कि सरकार बजट में काशी, अयोध्या, मथुरा के अलावा अन्य वैसे छोटे धार्मिक स्थानों को व्यवस्थित करने के लिए धनराशि जारी कर सकती है।

धार्मिक नगरी विकास :

योगी सरकार बजट में धार्मिक नगरी के विकास पर बजट का प्रावधान लाएगी। अब तक पेश किए गए 5 बजट में सरकार ने धार्मिक नगरी के विकास को लेकर फोकस किया था। भाजपा के मुख्य एजेंडे में धार्मिक नगरी के विकास को लेकर अलग-अलग तरीके की योजनाएं चलाई जाने का प्लान किया जा रहा है।

हेल्थ एंड मेडिकल :

प्रत्येक जिले में मेडिकल कॉलेज स्थापित किए जाने पर योगी सरकार का फोकस 2017 से जारी है। कोरोना काल में मेडिकल सेवाओं को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। प्रत्येक जिले में मेडिकल कॉलेज और सीएससी जैसे मेडिकल सेवाओं को बेहतर किए जाने पर इस बार के बजट में खास हो सकता है।

शिक्षा एवं छात्रवृत्ति :

बजट मेंसंस्कृत पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए भी खास होगा। छात्रवृत्ति बढ़ाने के लिए 10 करोड़ का बजट प्रावधान किए जाने की संभावना है। वर्तमान में कक्षा-9 से 12 तक के उत्तर प्रदेश संस्कृत बोर्ड के विद्यार्थियों या यूपी बोर्ड में संस्कृत विषय के साथ पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के लिए अन्य विषयों के विद्यार्थियों के समान ही छात्रवृत्ति मिलती है।

मिशन लोकसभा चुनाव:

साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए यूपी सरकार कुछ लोकलुभावन बजट ला सकती है। 2024 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के मिशन 80 को लेकर लगातार केंद्र सरकार और यूपी सरकार काम कर रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि बजट में 2024 के मिशन पर पूरा फोकस रहेगा।

2025 कुंभ की भव्यता:

2025 में प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ की तैयारियों के लिए बजट में आवंटन किया जा सकता है। महाकुंभ के आयोजन को लेकर अभी से तैयारियां तेज हो चुकी हैं। संगम नगरी में लगातार कुंभ की तैयारियों को लेकर कार्य किए जा रहे हैं। बजट में प्रयागराज और कुंभ में से संबंधित बजट राशि आवंटित की जा सकती है।

कुल मिलाकर विशेषज्ञों का अनुमान है कि कल पेश होने वाला बजट भाजपा के सबका साथ और सबका विकास के फार्मूले में मिशन 2024 का ब्लेंड होगा, पिटारा खुलने के बाद योगी सरकार का यह बजट पक्ष और विपक्ष को कितना पसंद आएगा यह देखने वाली बात होगी !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *