बाबा साकार हरि के वकील लड़ रहे सीमा हैदर का केस, निर्भया केस के बाद चर्चा में आए थे एपी सिंह!

0
53

हाथरस घटना के बाद इस मामले में एक नए चरित्र की एंट्री होती है और ये एंट्री है हाथरस घटना को लेकर चर्चित बाबा साकार हरि के अधिवक्ता एपी सिंह की, दरअसल सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक पत्र में लिखित है कि बाबा ने अपना पक्ष रखने एवं विधिक लड़ाई लड़ने के संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता एपी सिंह को नामित किया है।

विद्वान अधिवक्ता ने आंग्लभाषा में एक पत्र जारी किया जिसमें उल्लिखित दावों की माने तो उसमें यह टंकित किया गया कि हादसे पर दुख जाहिर करते हुए दावा किया गया असामाजिक तत्वों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी, इस पत्र में नारायण साकार हरि के हस्ताक्षर भी रहे, इस पत्र को बजरिए सुप्रीम कोर्ट के विद्वान अधिवक्ता डॉ० ए०पी० सिंह द्वारा प्रस्तुत किया गया।

तमाम लोगो के मन में जिज्ञासा हुई कि आखिर ये अधिवक्ता कौन है जिन्होंने इस प्रकार का दावा जारी किया तो हम आपको बता दे कि ये वही एपी सिंह हैं, जिन्होंने निर्भया मामले में आरोपियों का केस लड़ा था और इन आरोपियों को कोर्ट ने दोषी पाया था, मौजूदा समय में एपी सिंह पाकिस्तानी महिला सीमा हैदर का केस लड़ रहे हैं।

एपी सिंह मूल रूप से यूपी के रहने वाले हैं, वर्तमान समय में दिल्ली में रहकर वकालत करते हैं, वर्ष 2012 की चर्चित घटना में में वो अचानक सुर्खियों में आ गए थे, यह समय था जब कोई भी वकील निर्भया मामले में आरोपियों का केस लड़ने के लिए नहीं तैयार था, तब एपी सिंह ने केस अपने हाथ में लिया था,अधिवक्ता ने आरोपियों के दोषी ठहराए जाने के बाद भी कोर्ट में उनकी पैंतरेबाजी की वजह से सजा में देरी हुई थी। लखनऊ विश्वविद्यालय से लॉ ग्रेजुएट होने के साथ एपी सिंह ने डॉक्टरेट की डिग्री भी ली है. 1997 में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वकालत शुरू की।

मौजूदा समय में श्री सिंह इस समय पाकिस्तान से भारत आई सीमा हैदर का केस लड़ रहे हैं,सीमा की शादी 2016 में पाकिस्तान के गुलाम हैदर से हुई थी, उसके पति का कहना है कि उसके चार बच्चे हैं,ऑनलाइन गेम PUBG के जरिए उसकी मुलाकात 2019 में भारत में रहने वाले सचिन से हुई,दोनों में प्यार के बाद इसके बाद सीमा अवैध तरीके से भारत आई गई, इस समय ग्रेटर नोएडा में सचिन के साथ रह रही है, उस पर उसके पाकिस्तानी पति ने केस कर रखा है, जिसमें सीमा हैदर की तरफ से अधिवक्ता एपी सिंह पक्ष रख रहे है।

वही हैवानियत से भरे निर्भया( बदला हुआ नाम) मामले में तमाम अधिवक्ताओं ने निर्भया के आरोपियों का केस लड़ने से इनकार कर दिया था वही एपी सिंह ने वो कैसे अपने हाथ में लिया, हालांकि इस मामले में निर्भया के आरोपियों की सजा तय हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here