Home national एक बार फिर कृषि बिलों के खिलाफ शुरू हुआ किसानों का जनआंदोलन

एक बार फिर कृषि बिलों के खिलाफ शुरू हुआ किसानों का जनआंदोलन

25
Farmers Protest

नई दिल्ली (New Delhi), भारत: देश और दुनिया की तमाम खबरों के बीच बड़ी खबर सामने आई है जहां कोरोना काल (Corona Crisis) में एक बार फिर नए कृषि कानूनों ( New Agriculture Laws) के खिलाफ किसानों का जन आंदोलन छिड़ गया है। जहां आज 22 जुलाई से संसद में मानसून सत्र के बीच केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे है। बताते चले कि, किसान आंदोलन को लेकर दिल्ली उपराज्यपाल अनिल बैजल ने अधिकतम 200 किसानों को नौ अगस्त तक जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की अनुमति दे दी है।

किसान यूनियन के नेता ने बयान में कही बात
इसे लेकर जंतर-मंतर पर हो रहे आंदोलन के दौरान किसान यूनियन के नेता हन्नान मुल्ला ने कहा कि हमने अपनी मांगों को उठाने के लिए सभी सांसदों को पत्र लिखा है, लेकिन संसद में हमारे मुद्दे नहीं उठाए जा रहे हैं। वही एक घंटे के लंच ब्रेक के बाद एक बार फिर किसान इक्ट्ठा हुए है। बताते चलें कि, जंतर-मंतर हो रहे आंदोलन के दौरान किसान ने जहां बैज पहना था वहीं हाथ में अपनी यूनियनों के झंडे लिए हुए नजर आ रहे हैं।

किसान नेता टिकैत ने बयान में कही ये बात
इसे लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने मीडिया के सामने बयान देते हुए कहा कि, आज आठ महीने बाद सरकार ने हमें किसान माना है। किसान खेती करना भी जानता है और संसद चलाना भी जानता है। आगे कहा कि, संसद में किसानों की आवाज दबाई जा रही है। जो सांसद किसानों की आवाज नहीं उठाएगा हम उसका विरोध करेंगे। किसान अब अपनी संसद बैठाएंगे। बताते चलें कि, सरकार द्वारा लागू किए नए कृषि कानूनों के बाद से किसान विरोध में है। जहां कोरोना काल के पहले से विरोध जारी था वहीं संक्रमण के मामले बढ़ने के बाद आंदोलन थम गया था।