Home Entertainment CensorShip के नए कानून से क्यों विरोध में है बॉलीवुड के फिल्ममेकर्स,...

CensorShip के नए कानून से क्यों विरोध में है बॉलीवुड के फिल्ममेकर्स, जानें खबर खास

23
Censorship New law

Entertainment News: बॉलीवुड जगत में किसी फिल्म की रिलीज डेट हो या फिर किसी फिल्म के Content को लेकर बवाल। इसकी खबरें हमेशा सुर्खियों में रहती है इस बीच कोरोना महामारी में ही सिने जगत में मौजूदा समय में CensorShip के नए कानून ने हलचल मचा दी है जिसके विरोध में अभिनेता/ निर्माता फरहान अख्तर, अनुराग कश्यप, सुधीर मिश्रा सहित इंडस्ट्री से जुड़े 1400 लोग आए है इनका विरोध नए विरोध में किए गए प्रावधानों में बदलाव को लेकर है।

आखिर किस कानून ने फिल्ममेकर्स को किया परेशान
इस समय हम बात कर रहे है सिनेमेटोग्राफ (अमेंडमेंट) एक्ट 2021 की जिसे सरकार द्वारा लागू किया जा रहा है वास्तव में पुराने सिनेमेटोग्राफ एक्ट 1952 में अमूमन बदलाव किया गया है। कहा जा रहा है कि, सरकार सिनेमेटोग्राफ एक्ट 1952 के सेक्शन 6 में सुधार करने वाली है। जिसके बाद जारी नए प्रावधान के अनुसार किसी फिल्म को सेंसर सर्टिफिकेट मिल जाए, इसके बाद भी अगर सरकार को कोई शिकायत मिले तो फिल्म को पुन: समीक्षा के लिए उसे सेंसर बोर्ड के चेयरमैन को वापस भेजा जाएगा। इस प्रावधान ने जहां फिल्ममेकर्स के सामने बड़ा संकट लाकर खड़ा कर दिया वही नियम के तहत अब फिल्म सेंसरशिप की तीन नई कैटेगरी और होंगी। 7+, 13+ और 16+ कैटेगरी भी तय की गई है जिनके हिसाब से फिल्में बनेगी तो वहीं सिनेमाघरों में बच्चों की उम्र को लेकर किसी प्रकार की शंका होने पर सर्टिफिकेट भी मांगा जा सकता है। इस नए कानून ने फिल्ममेकर्स के साथ ही दर्शकों के लिए ही सीमाए तय कर दी है।

नए कानून को लेकर फिल्ममेकर्स ने रखी अपनी बात
इस संबंध में सेंसरशिप के नए कानून को लेकर प्रोड्यूसर्स गिल्ड ने विरोध जताया तो वही बॉलीवुड के फिल्ममेकर्स में शामिल फरहान अख्तर, हंसल मेहता और अनुराग कश्यप समेत 1400 लोगों ने इस सुधार के खिलाफ पिटीशन फाइल की है। जो फिल्म ऑलरेडी रिलीज हो चुकी है, उसके खिलाफ शिकायत होने पर फिर सेंसर करने के कानून सुधार का प्रोड्यूसर्स गिल्ड ने विरोध जताते हुए कहा कि, फिलहाल फिल्म इंडस्ट्री कोविड के प्रभाव से जूझ रही है।वहीं श्याम बेनेगल ने इस सुधार के समर्थन में कहा है कि कोई सर्टिफिकेशन स्थाई तौर पर लागू नहीं हो सकता। बरहाल अब देखना होगा कि सरकार द्वारा लागू किए जा रहे इस नए कानून को लेकर बॉलीवुड में कितना बवाल मचता है और कितना स्वीकार किया जाता है।